फायरवॉल क्या है | Firewall कैसे काम करता है | What is Firewall in Hindi

फायरवॉल क्या है

यह एक प्रकार का फिल्टर है जो इंटरनेट या file से कंप्यूटर में आने वाले सॉफ्टवेयर और प्रोग्रामों की जांच करती है और और हानिकारक प्रोग्रामों से कंप्यूटर या मोबाइल को सुरक्षित रखती है

आप सभी  Firewall शब्द से परिचित होंगे किंतु  firewall के बारे में पूरी तरह से आपको जानकारी नहीं होगी आज हम आपको बताएंगे कि फायरवाल.क्या है फायरवॉल कैसे काम करता है

इसके अतिरिक्त इस पोस्ट में आज हम आपको आपके मोबाइल और कंप्यूटर के लिए बेस्ट firewall भी बताएंगे चलिए शुरू करते हैं

फायरवॉल क्या है

फार वाला एक ऐसा सुरक्षा उपाय है जो हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से मिलकर बना होता है फायर वाल द्वारा कंप्यूटर या मोबाइल में आने वाले इलीगल और मलेशिया सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को डिवाइस में आने से रोका जाता है जिससे कि हमारा डिवाइस सुरक्षित रहे

Firewall कैसे काम करता है?

जब कोई बारिश हानिकारक कंप्यूटर प्रोग्राम या कंप्यूटर कोड नेटवर्क द्वारा यह फाइल शेयरिंग द्वारा कंप्यूटर में प्रवेश करती है तब कंप्यूटर का डिफेंस मेकैनिज्म एक्टिवेट हो जाता है और चेक करता है कि यह जो कंप्यूटर प्रोग्राम है उसके द्वारा कंप्यूटर सिस्टम को किसी प्रकार की हानि तो नहीं होगी

फ़ायरवॉल द्वारा कंप्यूटर कोड को चेक करने के बाद ही कंप्यूटर द्वारा उपयोग में लिया जाता है अगर वहां किसी अगर कोड, किसी वायरस इनफेक्टेड हो या खुद वायरस ह

 तब फ़ायरवॉल सिस्टम उस संदिग्ध सॉफ्टवेयर कोड को कंप्यूटर से दूर रखते हुए किसी कोने पर उसे स्टोर करती है या डिलीट की कर देती है इस प्रकार संदिग्ध कंप्यूटर प्रोग्राम को कंप्यूटर द्वारा बिल्कुल भी छेड़छाड़ नहीं किया जाता है उसे किसी लोकेशन पर ब्लॉक किया जाता है या पूरी तरह से डिलीट कर दिया जाता है

फ़ायरवॉल के प्रकार

दोस्तों कार्य करने के आधार पर फायर वालों को दो भागों में बांटा गया है

होस्ट आधारित फ़ायरवॉल

इस प्रकार के फायरवॉल सिस्टम में फायरवॉल कंप्यूटर सिस्टम के अंदर ही स्टेबल किए जाते हैं आपने देखा होगा की जब हम कोई कंप्यूटर लेते हैं तब उस कंप्यूटर पर हम कोई एंटीवायरस इंस्टॉल कर लेते हैं तब एंटीवायरस ही अपने आप में एक फायरवाल होता है

क्योंकि इसके द्वारा कंप्यूटर में आने वाले सभी प्रकार के डाटा कैसे स्कैन किया जाता है और इसके करने के बाद ही उस डाटा को कंप्यूटर में प्रवेश किया जाता है

एक तरह से आप फायर वालों को कंप्यूटर का गार्ड कह सकते हैं इसके अतिरिक्त ब्रांड न्यू कंप्यूटर या लैपटॉप पर कंपनी का खुद का इनबिल्ट security भी होता है

 जैसे कि यदि आप माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम वाला कोई कंप्यूटर खरीदते हैं तब उसमें माइक्रोसॉफ्ट का डिफेंडर फायर वाल और एंटीवायरस सिस्टम आपको साथ में मिलता है जो कि आपके ऊपर डिपेंड करता है कि आप उस फायरवाल को यूज करते हैं या नहीं करते

नेटवर्क आधारित फ़ायरवॉल

इस प्रकार के फायरवॉल सिस्टम में इसका एक अपना अलग डिवाइस होता है जो कि एक बॉक्स नुमा आकार में हो सकता है

इस प्रकार का फायरवाल सिस्टम हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर द्वारा निर्मित होता है नेटवर्क आधारित फायरवाल सिस्टम का सबसे बड़ा फायदा है कि इसके द्वारा प्रारंभ में ही कंप्यूटर प्रोग्राम को स्कैन किया जाता है

 उसके बाद ही कंप्यूटर प्रोग्राम या डाटा उनके कंप्यूटर में पहुंचता है आजकल बहुत सारी कंपनियां अपने ऑफिस में उपयोग होने वाली इंटरनेट सर्विस को सबसे पहले फायर वालों सिस्टम से गुजारती है और उसके बाद ही अपने ऑफिस के कंप्यूटर को इंटरनेट सेवा प्रदान करती है इसका सबसे बड़ा फायदा प्रारंभ में ही इलीगल एक्टिविटी को रोकना है

फ़ायरवॉल सिस्टम कहां उपयोग किया जाता है

आजकल जिस डिवाइस में हमारे द्वारा इंटरनेट सेवा का उपयोग किया जाता है उन सभी जगहों पर कारवाल सिस्टम को किया जाता है जैसे कि कंप्यूटर,मोबाइल,लैपटॉप इत्यादि इसके अलावा वेब होस्टिंग कंपनी द्वारा भी अपने user के लिए फायर वाला सिस्टम का उपयोग करते हैं

फ़ायरवॉल के कार्य

नेटवर्क आधारित डेटा संचरण में डाटा को firewall लिए सिस्टम द्वारा प्रारंभ में ही स्कैन कर कंप्यूटर को हनी होने से बचाती है

विशेष कंप्यूटर प्रोग्राम पाए जाने पर प्रोग्राम को ब्लॉक कर दिया जाता है या डिलीट कर दिया जाता है जिससे कि हमारा कंप्यूटर सेफ रहता है

firewall के कारण साइबर अटैक और सायबर हैकिंग की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है क्योंकि इन्हें अगर पप्रारम्भ में ही रोका जाए तब यह किसी प्रकार की नुकसान नहीं कर पाते

हम फैरवाल सिस्टम द्वारा अपने मन मुताबिक firewall rule सेट कर सकते हैं 

अगर किसी  कंप्यूटर या वेबसाइट  पर backdor बना कर रखा है तब firewall सिस्टम द्वारा हैकर और backdor के बीच ब्रिज को खत्म कर दिया जाता है जिससे भविष्य में किसी अन्य प्रकार की हानि से बचा जा सकता है

और भी पढ़े >

फायर वाल क्या है

 दोस्तों इस दोस्तों इस डिजिटल दुनिया में जब हमारा सभी काम इंटरनेट से हो तब हमें अपने इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में जिस में इंटरनेट सर्विस यूज़ होता है को सेफ रखने के लिए फायर वालों का उपयोग करना चाहिए

फायर वाल एक प्रकार का सिक्योरिटी सिस्टम होता है जो बाहर से आने वाली maleicuous code को चेक करती है और संदिग्ध एक्टिविटी होने पर उसे आने से रोकती है,जिससे कि आपकी डिवाइस सुरक्षित होती है और इसके अलावा भी बहुत सारी खतरे हैं जिससे कि आपकी डिवाइस की रक्षा हो जाती है

Share this

Leave a Comment

Don`t copy text!