रेडॉक्स अभिक्रिया क्या है

रेडॉक्स अभिक्रिया क्या है

जब किसी अभिक्रिया में ऑक्सीकरण और अपचयन एक ही वक्त में क्रियान्वित होती है तब इस प्रकार की अभिक्रिया को रेडॉक्स अभिक्रिया कहा जाता है

इस प्रकार की अभिक्रिया में ऑक्सीकरण और अपचयन दोनों साथ होता है इसलिए इन्हें    अपचयन-  ऑक्सीकरण  अभिक्रिया भी कहा जाता है

रेडॉक्स अभिक्रिया की परिभाषा

जब रासायनिक अभिक्रिया में एक तत्व से दूसरे तत्व में इलेक्ट्रॉन का स्थानांतरण होता है इस प्रकार की अभिक्रिया रेडॉक्स अभिक्रिया कहलाती है

रेडॉक्स अभिक्रिया का उदाहरण

कास्टिक सोडा का निर्माण,अल्युमिनियम,पोटैशियम,सोडियम आदि  धातुओं का निष्कर्षण रेडॉक्स अभिक्रिया के द्वारा ही संभव हो पाता है

रेडॉक्स अभिक्रिया को पूरी तरह से समझने के लिए ऑक्सीकरण और अपचयन को समझना जरूरी है चलिए जानते हैं कि ऑक्सीकरण क्या है और अपचयन क्या है

ऑक्सीकरण क्या है

 जब किसी तत्व  द्वारा ऑक्सीजन या ऋण विद्युत तत्व का ग्रहण किया जाता है और हाइड्रोजन अथवा धन विद्युती  तत्व का त्याग किया जाता है तब ऑक्सीकरण कहलाता है 

 अपचयन क्या है

जब कहीं किसी तत्व द्वारा हाइड्रोजन या धन विद्युत तत्व को ग्रहण किया जाता है और ऑक्सीजन या ऋण विद्युत तत्व को त्याग करने की प्रक्रिया अपचयन कहलाता है

ऑक्सीकरण अपचयन अभिक्रिया

वह रासायनिक अभिक्रिया है जिनमें शामिल तत्वों की संयोजकता परिवर्तित हो जाती है ऑक्सीकरण अपचयन अभिक्रिया कहलाती है इस प्रक्रिया में ऑक्सीकरण और अपचयन दोनों एक साथ होती है इस प्रकार की अभिक्रिया में एक तत्व का ऑक्सीकरण होता है तथा दूसरे तत्व का अपचयन होता है

ऑक्सीकारक और अपचायक

जब किसी अभिक्रिया में किसी तत्व का ऑक्सीकरण होता है उसे अपचायक कहा जाता है तथा जिस तत्व का अपचयन होता है उसे ऑक्सीकारक कहा जाता है

और भी पढ़े >

Share this

Leave a Comment