अपरा (placenta)क्या है | अपरा से स्त्रावित होने वाले दो हॉर्मोन के नाम लिखिए

आज हम आपको बताएँगे की “अपरा क्या है “-अपरा (placenta ) मादा जनन तंत्र में पाए जाने वाला एक ऐसा अंग है  जो तब निर्मित होता है जब  मादा गर्भवती होती है इस स्थिति में अपरा के अंदर ही भ्रूण का विकास होता है

 अपरा और मादा के बीच रुधिर  पदार्थों के साथ-साथ पोषक तत्वों का भी स्थानांतरण होता है जो भ्रूण के विकास में मुख्य भूमिका निभाता है, इस आंवल भ्रूण भी कहा जाता है इसका निर्माण उत्तक से होता है, चलिए विस्तार से जानते हैं

अपरा क्या है

अपरा (प्लेसेंटा )मानव भ्रूण की पोषण श्वसन तथा उत्सर्जन के लिए मदर टिशु और भ्रूण के बीच एक कार्यकारी यांत्रिक संबंध होता हैयह प्लेसेंटा तब निर्माण होता है जब मादा गर्भवती होती है इस स्थिति में गर्भाशय के अंदर जब शुक्राणु और अंडाशय का निषेचन होता है

तब उसके चारों ओर एक आवरण बन जाता है जिसे अपरा कहा जाता है अपरा बनने के बाद अपरा और भ्रूण के बीच रस्सी के समान एक संरचना बनता है जिसे नाभि नाल कहते हैं इसका एक सिर भ्रूण की नाभी तथा दूसरा सिरा अपरा के मध्य भाग से जुड़ा होता है

इस नाभि नाल में धमनी और शिरा विकसित होती जाती है,अपरा का पूरी तरह से निर्माण शिशु के तीसरे महीने तक की स्थिति में हो जाता है और जब तक की गर्भकाल होता है तब तक शिशु इसी प्लेसेंटा के अंदर विकसित होते रहता है

जब प्लेसेंटा पूर्ण विकसित हो जाता है तब यहां लाल भूरी डिस्क के समान दिखाई देता है नाभि नाल की की सहायता से अपरा के माध्यम से शिशु को खाद्य पदार्थ जैसे -ग्लूकोस अमीनो अम्ल सरल प्रोटीन लिपिड जल खनिज लवण के अतिरिक्त विटामिन हार्मोन एंटीबॉडी तथा ऑक्सीजन शिशु को प्राप्त होती है

शिशु के द्वारा विसर्जित पदार्थ जैसे कार्बन डाइऑक्साइड यूरिया जल उड़िया और हारमोंस माता में प्रवेश करता है

प्लेसेंटा का एक विशेष गुण है कि इसके द्वारा मां के रक्त को भ्रूण के प्रत्यक्ष संपर्क में आने से रोकता है क्योंकि मां और शिशु दोनों के बीच रक्त भी असमान होती है

प्लेसेंटा के कार्य

इसके द्वारा भ्रूण को आवश्यक पोषक पदार्थ दिया जाता है

प्लेसेंटा जटिल प्रोटीन को सरल प्रोटीन में बदलकर नाभि नाल के माध्यम से शिशु को देता है

ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के आदान-प्रदान को आसान बनाता है

शिशु द्वारा बनाए गए नाइट्रोजन उत्सर्जी पदार्थ को नाभि नाल के जरिए से माता को देकर उत्सर्जित करता है

प्लेसेंटा के द्वारा एस्ट्रोजन,प्रोजेस्टरॉन,कोरीयोनिक गोनोडोटरोपिन हार्मोन और ह्यूमन प्लेसेंटल लैक्टोजेन नामक हार्मोन का सत्रवण किया जाता है

प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के द्वारा माता में स्तन ग्रंथि और दूध के निर्माण के लिए प्रेरित करता है

कोरीयोनिक गोनोडोटरोपिन हार्मोन हार्मोन के द्वारा 3 महीने तक कॉरपस लूएटियम होर्मोंन्स को सक्रिय बनाए रखना है

प्लेसेंटा छनन अंग जैसे भी काम करता है

अपरा से स्रावित हार्मोन

अपरा से निम्न प्रकार के  हार्मोन स्रावित होते हैं

 कोरियॉनिक गोनेडोट्रॉपिक हार्मोन, प्लेसेंटल लैक्टोजेन, estrogen, Progesterone

Share this

3 thoughts on “अपरा (placenta)क्या है | अपरा से स्त्रावित होने वाले दो हॉर्मोन के नाम लिखिए”

  1. गर्भावस्ता के दौरान मां अपने बच्चे से जिस रचना में जुड़े रहते है उसे अपरा या प्लासेंटा कहते है;
    इसका निर्माण भ्रोणिक झिल्ली कोरियन से होता है
    अपरा का एक सिरा गर्भाशय के दीवार से तथा दूसरा सिरा बच्चे के नाभी से जुड़ा रहता है
    जिसकी सहायता से शिशु गर्भ में पोषण ,श्वसन,उत्सर्जन ,वृद्धि ,विकाश करता है:

    Reply
  2. अपरा से श्रावित होने वाले हार्मोन है:(
    एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन है और
    एच सी जी ,यानी ह्यूमन कोरियोनिक गोनाड्रोपिन और एच पी एल

    Reply
    • जानकारी शेयर करने के लिए धन्यवाद, आपका स्वागत है हमारे वेबसाइट में

      Reply

Leave a Comment