न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है

न्यूलैंड का अष्टक नियम क्या है

न्यूलैंड ने तत्वों को परमाणु भार के आधार पर व्यवस्थित करने का निर्णय लिया और उनके नियम के अनुसार तत्व को उनकी परमाणु भार के अनुसार  बढ़ते क्रम में रखा जाता है तब आठवे तत्व का गुण और पहले तत्व का गुण समान होता है

  • अर्थात कहना चाहिए कि आठवीं तत्व की जो भी विशेषताएं होंगी वैसे ही  विशेषताएं पहले तत्व की भी होंगी इस आधार पर न्यूलैंड कहना चाहते थे कि पहला तत्व और आठवां तत्व हमेशा सामान गुणधर्म दिखाते हैं
  • ऐसी ही गुणधर्म होता है संगीत की  8 स्वरों में जिस प्रकार संगीत में 8 अठवा सूर और पहला सुर में समानता होता है जो कि न्यूलैंड के अष्टक नियम के एकदम समान है
  • न्यूलैंड की अष्टक नियम के अनुसार हाइड्रोजन और फ्लोरीन के गुणधर्म पूरी तरह समान होते हैं न्यूलैंड के अस्टक नियम के अनुसार देखे तो फ्लोरीन हाइड्रोजन के बाद आठवां तत्व होता है

“न्यूलैंड का अष्टक नियम ” के बारे आप कुछ पूछना चाहते हैं तो कृपया comment box में जरूर क्वेश्चन पूछे हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा, आप हमारे वेबसाइट vigyantk.com पर यू ही आते रहे जहाँ पर हम विज्ञान , प्रोद्योगिकी, पर्यावरण औऱ कंप्यूटर जैसे विषयो पर जानकारी साझा करते है

और भी पढ़े >

Share this

Leave a Comment