Network Attached Storage क्या है |  NAS क्या है | What Is NAS In Hindi

Network Attached Storage क्या है

“Network-attached storage” (NAS) एक प्रकार का डेटा स्टोरेज टेक्नोलॉजी  होता है जो इंटरनेट के माध्यम से डेटा साझा करने और स्टोर करने की सुविधा प्रदान करता है। यह किसी भी इंटरनेट नेटवर्क पर कनेक्ट किया जा सकता है, और उपयोगकर्ताओं को अपने नेटवर्क के अन्दर डेटा स्टोर करने और एकसेस करने की अनुमति देता है।

NAS इसलिए महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह केंद्रीकृत रूप से डेटा को संग्रहित करने की permision  देता है, जिससे उपयोगकर्ताओं को डेटा को शेयर  करने में आसानी होती है, और डेटा की सिक्योरिटी भी बढ़ जाती है। NAS डिवाइस विभिन्न स्टोरेज कैपेसिटी वाले हो सकते हैं और विभिन्न नेटवर्क प्रोटोकॉल्सकी सपोर्ट करती हैं, जैसे कि NFS, SMB/CIFS, FTP, आदि।

किसी नेटवर्क-अटैच्ड स्टोरेज को हैक करने का प्रयास “network-attached storage (NAS) attack” के रूप में जाना जा सकता है, जिसमें हैकर नेटवर्क के माध्यम से NAS डिवाइस के डेटा तक पहुंचने की कोशिश कर सकते हैं, या उसके डेटा को बदल सकते हैं या नष्ट कर सकते हैं। इसलिए NAS सुरक्षित रखने के लिए फ़ायरवॉल का उपयोग करना महत्वपूर्ण होता है।

NAS का फुल फॉर्म क्या है

NAS का फुल फॉर्म network attached storage है

NAS किस काम आता है

जब हम अपनी बहुत सारी डाक्यूमेंट्स फाइल इमेज ऑडियो वीडियो या सॉफ्टवेयर या किसी भी प्रकार की डिजिटल डाक्यूमेंट्स जिसे हम ऑनलाइन अपलोड कर सकते हैं,

इस सब का एक स्टोरेज डिवाइस में बैकअप लेकर उसे कभी भी इंटरनेट की सहायता से हम अपने लैपटॉप पीसी मोबाइल या टैब पर किसी किसी भी टाइम  उस बैकअप डाटा उपयोग कर सकते हैं

NAS  बनाने में क्या क्या उपयोग होता है 

NAS  बनाने में computer के पुरे हार्डवेयर जैसे   motherbord , microprocessor , ssd, ram , smps और इसके अलावा सॉफ्टवेयर में ऑपरेटिंग सिस्टम ( ऑपरेटिंग सिस्टम किसे कहते है ) और बहुत सारे यूटिलिटी सॉफ्टवेयर भी उपयोग में लाये जाते है 

NAS कैसे काम करता है

NAS बनाने के लिए स्टोरेज डिवाइस और कंप्यूटर को साथ में मिला दिया जाता है तब यह NAS कहलाता है,इसके लिए स्टोरेज डिवाइस में हार्ड डिस्क या एसएसडीडी का उपयोग किया जाता है

इन दोनों स्टोरेज डिवाइस को एक कंप्यूटर सिस्टम द्वारा अटैच किया जाता है यह कंट्रोल सिस्टम इन दोनों स्टोरेज डिवाइस को सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के रूप में उपयोग करता है और यूजर  के सभी डाटा को इसी सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस में बैकअप लिया जाता है

 इसके साथ attached कंप्यूटर सिस्टम को 24 घंटे इंटरनेट सेवा और बिजली से जोड़ा जाता है जिससे कि यह किसी भी वक्त यूजर को फाइल्स का एक्सेस दे सके

NAS डिवाइस क्या काम करता है?

Network-Attached Storage (NAS)- डिवाइस डेटा स्टोर के लिए डिज़ाइन किया गया है और यह नेटवर्क के माध्यम से डेटा को स्टोर करता है ताकि यूज़र्स उसे नेटवर्क के अन्दर से शेयर  कर सकें। यहाँ पर NAS के काम करने के टेक्निक निचे दिए है हैं:

1. Storage- NAS डिवाइस स्टोरेज  हार्डवेयर जैसे कि हार्ड ड्राइव्स सॉलिड स्टेट ड्राइव में डाटा को होस्ट करता है और उनमें डेटा स्टोर  करता है। यह आपके डॉक्यूमेंट्स, फ़ोटो, वीडियो, ऑडियो सॉफ्टवेयर , इमेज और भी अन्य प्रकार की  फ़ाइल्स को सुरक्षित रखने का ऑप्शन प्रदान करता है।

2. Network Access-NAS नेटवर्क के माध्यम से डेटा को अन्य डिवाइसों के साथ शेयर करने की पर्मिशन देता है। यूज़र्स अपने कंप्यूटर, स्मार्टफ़ोन, टैबलेट आदि से NAS के डेटा का acess कर सकते हैं।

3. File Sharing- NAS डिवाइस यूज़र्स को अलग-अलग तरीको से फ़ाइल शेयर  करने की अनुमति देता है, जैसे कि url लिंक, यूज़र अक्सेस आदि 

4. Backup -NAS डिवाइस बैकअप स्टोरेज के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है। यह डेटा को सुरक्षित रखने और इसे यदि ज़रूरतपड़ने  पर उपयोग करने की सुविधा प्रदान करता है।

5. Security -NAS डिवाइस सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण होता है, जिसमें डेटा एन्क्रिप्शन, एक्सेस कंट्रोल, ssl और फ़ायरवॉल से संबंधित सिक्योरिटी  के तरीके  शामिल होते हैं।

6 . Remote Access-कुछ NAS डिवाइसेस आपको बहुत दूर स्थान से अपने डेटा का एक्सेस लेने  की सुविधा प्रदान करते हैं,जैसे आप दिल्ली में रहकर अपने डाटा को बॉम्बे से acess करर्ते हो इसमें  आप अपने फ़ाइलों काउपयोग किसी भी स्थान से कर सकते हैं।

NAS स्टोरेज के फायदे क्या हैं?

NAS (Network-Attached Storage) स्टोरेज के कई फायदे होते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

1.Network Sharing -NAS उपयोगकर्ताओं को उनके नेटवर्क के अन्दर डेटा स्टोर करने की सुविधा प्रदान करता है। जिसमे किसी सर्वर की आवश्यकता नहीं होती है, जो घरेलू और व्यापारिक उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी होता है।

2. Storage NAS डिवाइस विशाल स्टोरेज कैपेसिटी के साथ आता है, जिससे आप अपने फ़ाइल्स, वीडियो, फ़ोटो, और अन्य मीडिया को सिक्योर  रूप से स्टोर  कर सकते हैं।

3. Security -NAS कई प्रकार के सुरक्षा के फ़ीचर्स प्रदान करता है, जैसे कि एन्क्रिप्शन, एक्सेस कंट्रोल, और बैकअप । इससे आप अपने डेटा को सुरक्षित रूप से रख सकते हैं।

4. Backup-NAS डिवाइस बैकअप स्टोरेज के रूप में उपयोगी होता है। आप अपने कंप्यूटर और डिवाइसों के डेटा को रेगुलर  रूप से NAS पर बैकअप कर सकते हैं, जिससे आपके डेटा की सुरक्षा बढ़ती है।

6. Multi-Platform Support-NAS डिवाइसेस विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम और प्लेटफ़ॉर्म्स को सपोर्ट करते  हैं, जिससे इसे ऑपरेट और एक्सेस करना आसान होता है, चाहे वो विंडोज, मैक, लिनक्स, या मोबाइल डिवाइस्स हों।

7.Scalability -NAS स्टोरेज को आसानी से एक्सपैंड किया जा सकता है, जिससे आपके डेटा की स्टोरेज कपीसिटी और रेलायब्लिटी भी बढ़ती है।

8 Ease of Management – NAS डिवाइसेस आमतौर पर आसान उपयोग और मकनगमेंट के साथ आते हैं, जिससे आपको टेक्निकल knowledge  की जरुरत नहीं होती है।

ये फायदे NAS स्टोरेज को आमतौर पर होम और कॉमर्सिअल  उपयोगक  के लिए एक आकर्षक स्टोरेज सलूशन है 

Network-attached storage के प्रकार क्या होते हैं?

Network-Attached Storage (NAS) के कई प्रकार हो सकते हैं, जो उपयोग पर निर्भर होते हैं और विभिन्न फीचर्स और क्षमताओं के साथ आते हैं। ये कुछ प्रमुख NAS के प्रकार हैं:

1घरेलू NAS:- यह NAS घरेलू उपयोगक के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसका उद्देश्य परिवार के सदस्यों को उनके घरेलू नेटवर्क पर स्टोर डेटा को शेयर करने की सुविधा प्रदान करना है।

2.कमर्सिअल  NAS- यह NAS व्यवसायों और ऑफिस  के लिए होता है और उन्हें आधीक  डेटा संग्रहण, अधिक सुरक्षा, और अधिक उपयोगक के लायक बनाया जाता है 

3 रैकमाउंट NAS:- ये NAS डिवाइसेस कमर्सिअल डेटा सेंटरों में इंस्टॉल किए जा सकते हैं और इन्हे एक रैक पर  माउंटिंग करके उपयग में लाया जाता है । इन्हें अधिक डेटा संग्रहण और अच्छी सुरक्षा की आवश्यकता होती है।

4. मोबाइल NAS -कुछ NAS डिवाइसेस पोर्टेबल होते हैं और इन्हें ट्रेवल करने के दौरान उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है।

5. फाइल सर्वर NAS:-इन NAS डिवाइसेस का उद्देश्य फ़ाइलों को सेंट्रल रूप से संग्रहित करना और फ़ाइल सर्वर के रूप में कार्य करने के लिए बनाया जाता है , जिससे यूज़र्स उन्हें आसानी से एक्सेस कर सकें।

6. वीडियो सर्वर NAS:- यह विशेष रूप से मिडिया स्ट्रीमिंग के लिए डिज़ाइन किया जाता है, जिससे वीडियो और ऑडियो को नेटवर्क के माध्यम से लाइव स्ट्रीम किया जा सकता है।

7.वायरलेस NAS:- कुछ NAS डिवाइसेस वायरलेस नेटवर्क के माध्यम से कनेक्ट हो सकते हैं, जिससे वायरलेस डेटा शेयर करने की सुविधा मिलती है।

8. पर्सनल क्लाउड NAS:- यह NAS डिवाइस आपको आपके खुद के पर्सनल क्लाउड की तरह डेटा एक्सेस और स्टोर  करने की सुविधा प्रदान करता है, जिससे आप अपने डेटा काकण्ट्रोल रख सकते हैं।

ये कुछ प्रमुख NAS के प्रकार है, जो  उपयोग और फायदे के आधार पर काम में लाये जाते है 

  NAS स्टोरेज की सुरक्षा कैसे बढ़ाई जा सकती है?

NAS (Network-Attached Storage) स्टोरेज की सुरक्षा को बढ़ाने के कई तरीके हैं, निम्नलिखित हैं:

1.स्ट्रॉन्ग पासवर्ड का उपयोग- NAS डिवाइस को सुरक्षित बनाने का पहला कदम है, स्ट्रॉन्ग और टफ पासवर्ड का उपयोग करना। इसे समय समय पर बदलते रहना चाहिए और पासवर्ड में अल्फान्यूमेरिक और विशेष अल्फाबेट  का मिश्रण होना चाहिए।

2. एन्क्रिप्शन:- NAS डेटा को एन्क्रिप्ट करने के लिए SSL/TLS और अन्य एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल्स का उपयोग कारना चाहिए 

3.एक्सेस कंट्रोल – NAS पर एक्सेस कंट्रोल सेटिंग्स को एक्टिव कर two factor फंक्शन को  उपयोगकर्ताओं तक डाटा पहुंचाने  के लिए उपयोगक की अनुमति देना चाहिए 

4.फ़ायरवॉल और इंट्रयूशन डिटेक्शन:-अपने NAS डेटा को वायरलेस नेटवर्क के साथ रखने के लिए फ़ायरवॉल और इंट्रयूशन डिटेक्शन सिस्टम्स का उपयोग करें, जो अवैध प्रवेश को रोकने में मदद करते हैं।

5 ऑफलाइन बैकअप:- NAS डेटा का नियमित ऑफलाइन बैकअप बनाएं, जिससे आप डेटा को खोने की कंडीशन में दोबारा र्प्राप्त कर सकें।

6.  अपडेट्स और पैचेस:-NAS सॉफ़्टवेयर को नियमित रूप से अपडेट करें और सुरक्षा पैचेस को अप्लाई करें, ताकि नया सुरक्षा अपडेट रहे  

7. वायरस और मैलवेयर स्कैनिंग:-NAS पर वायरस और मैलवेयर स्कैनिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करें, जिससे खतरनाक फ़ाइलों को डिटेक्ट कर सकें।

8. दूरस्थ एक्सेस कंट्रोल:- यदि आप दूरस्थ एक्सेस को सक्रिय करना चाहते हैं, तो VPN (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) का उपयोग करें, जिससे सुरक्षा बढ़ सकती है।

NAS डिवाइस को कहा उपयोग किया जाता है ?

NAS (Network-Attached Storage) डिवाइस कई विभिन्न स्थितियों में उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि:

1.घरेलू उपयोग:यह  घरेलू उपयोगकर्ताओं के लिए अच्छा होता है,इसका उपयोग फ़ाइल साझा करने, फ़ोटो और वीडियो संग्रहण, और निजी मल्टीमीडिया सर्वर के रूप में किया जा सकता है।

2. व्यापारिक उपयोग:-व्यवसायों में, NAS डिवाइस सेंट्रलाइज़ड डेटा संग्रहण, टीम कोलेबोरेशन, और डेटा बैकअप के लिए उपयोग किया जा सकता है। 

3 . डेटा बैकअप:- NAS डिवाइस अपने कंप्यूटरों और सर्वरों के डेटा का सुरक्षित बैकअप रखने के लिए उपयोग किया जा सकता है, ताकि डेटा की नुकसान की स्थिति में उसे दोबारा प्राप्त  किया जा सके।

NAS और DAS के बीच में अंतर क्या है?

NAS (Network-Attached Storage) और DAS (Direct-Attached Storage) दो विभिन्न प्रकार की स्टोरेज टेक्नोलॉजी  हैं, जो डेटा स्टोर  के लिए उपयोग होती हैं और इनमें कई महत्वपूर्ण अंतर होते हैं:

1. कनेक्टिविटी:-

  NAS (Network-Attached Storage – NAS नेटवर्क के माध्यम से कनेक्ट होता है और विभिन्न डिवाइसों को नेटवर्क के साथ डेटा साझा करने की सुविधा प्रदान करता है।

  DAS (Direct-Attached Storage):-DAS कंप्यूटर के साथ सीधे कनेक्ट होता है और केवल उस कंप्यूटर से ही एक्सेस किया जा सकता है।

2.शेयरिंग:

  NAS- NAS डिवाइस को नेटवर्क के अन्य उपयोगकर्ताओं के साथ फ़ाइलों को साझा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, इसका मतलब एक्सेस कंट्रोल और डेटा शेयर  करने की सुविधा होती है।

DAS:- DAS डिवाइस केवल एक कंप्यूटर से जुड़ा होता है, इसलिए डेटाशेयर करने की सुविधा नहीं होती है, यह केवल उस कंप्यूटर के लिए उपयोगी होता है जिससे वह जुड़ा होता है।

3.स्कैलेबिलिटी:

  NAS:- NAS डिवाइस को आसानी सेएक्सपैंड  किया जा सकता है और नेटवर्क पर अधिक उपयोगकर्ताओं को सपोर्ट करने  की क्षमता होती है।

DAS:-DAS की स्कैलेबिलिटी में सीमाएँ होती हैं, क्योंकि यह केवल एक कंप्यूटर के साथ कनेक्ट होता है और नेटवर्क पर आसानी से साझा नहीं किया जा सकता है।

4.फायल एक्सेस:

  NAS:- NAS डिवाइस को नेटवर्क के माध्यम से आगे बढ़ाने के लिए कई उपयोगकर्ता एक्सेस कर सकते हैं, और उन्हें एक्सेस कंट्रोल की सुविधा होती है।

  DAS:- DAS केवल उस कंप्यूटर से एक्सेस किया जा सकता है जिससे वह जुड़ा होता है, और अन्य उपयोगकर्ताओं को डेटा तक पहुँचने की सुविधा नहीं होती।

5.कॉस्ट:

  NAS:- NAS डिवाइसेस में अक्सर अधिक बजट फ्रेंडली  विकल्प होते हैं, क्योंकि एक ही डिवाइस को विभिन्न उपयोगकर्ताओं के साथ शेयर  किया जा सकता है।

  DAS- DAS डिवाइसेस केवल एक कंप्यूटर के लिए होते हैं, इसलिए यह किसी कंप्यूटर के लिए सस्ता हो सकता है,

NAS की विशेषता क्या है

  • NAS मैं बहुत ज्यादा स्टोरेज क्षमता को बढ़ाया जा सकता है जिससे कि बहुत ज्यादा मात्रा में डाटा का बैकअप लिया जा सकता है
  • इंटरनेट सेवा के द्वारा इस डाटा को कहीं से भी सीधी एक्सेसलिया जा सकता है
  • इसी अपने घर में भी उपयोग किया जा सकता है

Conclusion – Network Attached Storage क्या है

Network Attached Storage (NAS) एक तरह की सर्वर होता है जो इंटरनेट नेटवर्क के सभी उपयोगकर्ताओं के लिए डेटा संग्रहण और शेयर करने की सुविधा प्रदान करता है। इसका मुख्य उद्देश्य फ़ाइल स्टोरेज को आसान और सुरक्षित बनाना है, जिससे कंप्यूटर उपयोगकर्ता अपने नेटवर्क से इसे आसानी से एक्सेस कर सकें। NAS का उपयोग घरेलू उपयोग से लेकर व्यापारिक उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है, और यह एक सस्ता और आसान  तरीका है 

इसके फायदे:

1. आसानी से डेटा शेयर  करने की सुविधा

2. बढ़ती हुई स्टोरेज क्षमता के साथ स्कैल करने की सुविधा

3. डेटा की सुरक्षा और संरक्षण

4. रिमोट डाटा acess की सुविधा 

कुल मिलाकर, NAS एक उपयोगकर्ता और संगठनों के लिए आसानी से डेटा संग्रहण और शेयर करने का मजबूत और प्रैक्टिकल तरीका  है जो नेटवर्क पर डेटा को सुरक्षित रूप से बनाए रखने में मदद करता है।

“Network Attached Storage क्या है ” के बारे आप कुछ पूछना चाहते हैं तो कृपया comment box में जरूर क्वेश्चन पूछे हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा, आप हमारे वेबसाइट vigyantk.com पर यू ही आते रहे जहाँ पर हम विज्ञान , प्रोद्योगिकी, पर्यावरण औऱ कंप्यूटर जैसे विषयो पर जानकारी साझा करते है

अन्य भी पढ़े >

Share this

Leave a Comment