हाई लेवल लैंग्वेज क्या है | हाई लेवल लैंग्वेज के प्रकार

हाई लेवल लैंग्वेज क्या है ( high level language hindi )

यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमें कंप्यूटर प्रोग्राम को एक सामान्य इंग्लिश के वर्ड जैसे लिखा जाता है जिसको बाद में लैंग्वेज ट्रांसलेटर जैसे कंपाइलर और इंटरप्रेटर द्वारा मशीन लैंग्वेज में बदला जाता है

अंग्रेजी भाषा में कोडिंग करने की वजह से इसको प्रोग्राम करने में आसानी होती है और इसी की सहायता से बहुत सारे सॉफ्टवेयर और टूल प्रोग्राम की जाते हैं -फोर्ट्रन ,बेसिक, कोबोल,पास्कल,सी, सी प्लस प्लस,जावा हाई लेवल लैंग्वेज के उदाहरण है

आइए हाई लेवल लैंग्वेज क्या है के बारे में विस्तार से जानते हैं

FORTRAN

FORTRAN इक हाई लेवल लैंग्वेज है जिस का फुल फॉर्म फार्मूला ट्रांसलेशन है इसका निर्माण इंटरनेशनल बिजनेस मशीन की मेकर जान बेकर्स द्वारा 1957 में किया गया था इसके द्वारा वैज्ञानिक और गणित सभी प्रकार की समस्याओं को हल करने के लिए इसको बनाया गया था FORTRAN भाषा पहली हाई लेवल लैंग्वेज है जिसमें बीजगणित समस्याएं हल की जा सकती हैं

इस भाषा के संस्करण FORTRAN -IV और FORTRAN -77 है 

 बेसिक

बेसिक हाई लेवल लैंग्वेज ग्रुप का है बेसिक का फुल फॉर्म बिगिनर्स  पर्पस सिंबॉलिक इंस्ट्रक्शन कोड है ,जिसका उपयोग माइक्रो कंप्यूटर में होता है अधिकांश या लैंग्वेज प्रोग्रामिंग भाषा सीखने वाले बच्चों को असल से सिखाई जाने वाली उच्च स्तरीय भाषा है इसे सर 1964 में डॉर्टमाउथ कॉलेज में डॉक्टर जॉन केमेनी और थॉमस कुटर्ज ने डिवेलप किया था

बेसिक भाषा को कंप्यूटर सिस्टम में प्रोग्रामिंग के लिए उपयोग किया जाने वाला बहुत ही आसान भाषा है इसका उपयोग सभी कंप्यूटर में बच्चों को सिखाने के लिए किया जाता है इसमें प्रोग्राम किया हुआ मटेरियल को लैंग्वेज ट्रांसलेटर की सहायता से हाई लेवल लैंग्वेज में बदला जाता है जिसमें किसी भी प्रकार की त्रुटि को तुरंत पता लगाया जा सकता है इसलिए यह प्रोग्रामिंग सीखने वाले बच्चों के लिए बहुत ज्यादा आसान हो जरूरी है। बेसिक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के कई वर्जन अभी मौजूद है लेकिन सबसे लेटेस्ट GWBASIC और थोम्ब है 

 कोबोल ( COBOL )

कोबोल शब्द कॉमन बिजनेस ओरिएंटेड लैंग्वेज का शॉर्ट फॉर्म है इसको व्यापारिक प्रकार की डाटा की समस्याओं को हल करने के लिए बनाया गया था

इस भाषा का विकास सन 1959 में कमांडर ग्रेस मोरे हार्पर के मार्गदर्शन में अमेरिका के रक्षा विभाग में प्रारंभ हुआ जिसे बाद में एक भाषा विकास समूह कोड़ासील को सौंप दिया गया उसका पहला वर्जन 1968 में लांच किया गया वर्तमान में  व्यापारिक डेटा प्रक्रिया को COBOL में उपयोग किया जाता है

कोबोल का विकास करने के पीछे मुख्य उद्देश्य था कि ऐसा हाई लेवल लैंग्वेज बनाया जाए जो मशीन पर आधारित ना हो

पास्कल( pascal )

इस भाषा का नामकरण महान गणितज्ञ ब्लेज पास्कल के नाम पर किया गया है इस भाषा को ALGOL -60 नामक भाषा से इंस्पायर होकर बनाया गया है इसका निर्माण 1970 में niklaus wirth ने किया था PASCAL का निर्माण करने का मुख्य उद्देश्य था कि इसके द्वारा सिस्टम सॉफ्टवेयर का निर्माण किया जाएगा

सी- C

सी भाषा का विकास अमेरिका के बेल लबोंट्री में 1972 में at&t द्वारा किया गया जिसका श्रेय डेनिस रिचि को दिया जाता है ऐसा कहा जाता है कि इसका नाम C से इसलिए दिया गया क्योंकि इसके पहले वाले संस्करण का B था

सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग वर्तमान में बहुत ज्यादा सॉफ्टवेयर के प्रोग्राम में किया जाता है और एक जानने वाली बात है कि यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज UNIX भाषा लैंग्वेज से संबंधित है

यूनिक्स के कई पहले वाले वर्जन सी भाषा में लिखे गए थे सी लैंग्वेज एक बहुत ही शक्तिशाली भाषा है क्योंकि यह मेमोरी में स्टोर किए गए डाटा को एड्रेस प्रदान करता है

 सी प्लस प्लस ( C++ )

इसका विकास उन प्रोग्रामर्स    के लिए किया गया था जो एक ही समस्या को बार-बार हल करते थे इसके विकास से उनकी समस्या का निराकरण हुआ। सी प्लस प्लस भाषा सी लैंग्वेज का ही अगला रूप है इसका विकास सन 1980 में बेल लेबोरेटरी में bjarne stroustrup ने किया था

सी प्लस प्लस भाषा का विकास ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग के लिए किया गया था जिसके द्वारा बड़ी और जटिल प्रोग्राम आसानी से तैयार किए जा सकते हैं

जावा ( JAVA )

1970 में जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का विकास सन माइक्रोसिस्टम द्वारा किया गया था इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का को बनाने का मुख्य उद्देश्य था कि इसके द्वारा वेबसाइट के वेब पेज के लिए एपलेट्स का निर्माण किया जा सके एपलेट्स एक छोटे प्रोग्राम होते हैं जिनकी सहायता से छोटे-छोटे कंप्यूटर कोड को रन किए जाते हैं

conclusion – हाई लेवल लैंग्वेज क्या है

तो दोस्तों आप समझ गए होंगे कि है हाई लेवल लैंग्वेज मैं कौन-कौन से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आते हैं इन सभी हाई लेवल लैंग्वेज का उपयोग सॉफ्टवेयर और सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाने में किया जाता है यये बहुत ज्यादा उपयोगी है हाई लेवल लैंग्वेज में सी प्लस प्लस विजुअल बेसिक जवा फोटो को बोल जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज शामिल है

” हाई लेवल लैंग्वेज क्या है ” के बारे आप कुछ पूछना चाहते हैं तो कृपया comment box में जरूर क्वेश्चन पूछे हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा, आप हमारे वेबसाइट vigyantk.com पर यू ही आते रहे जहाँ पर हम विज्ञान , प्रोद्योगिकी, पर्यावरण औऱ कंप्यूटर जैसे विषयो पर जानकारी साझा करते है

अन्य भी पढ़े

Share this

Leave a Comment