एड्रिनल ग्रंथि क्या है (अधिवृक्क ग्रंथि )- एड्रिनल ग्रंथि के कार्य , एड्रिनल ग्रंथि का संरचना

एड्रिनल ग्रंथि क्या है ( अधिवृक्क ग्रंथि )- Adrenal को हिंदी में अधिवृक्क ग्रंथि कहा जाता है जिसका काम शरीर में बहुत सारे क्रियाओं को नियंत्रित करने और लैंगिक लक्षणों को विकसित करने के लिए इसकी जिम्मेदारी होती है

आज इस पोस्ट पर हम आपको एड्रिनल ग्रंथि की संरचना के बारे में बताएंगे और पूरी विस्तार से आपको सूचना देंगे

एड्रिनल ग्रंथि क्या है

  • एड्रिनल ग्रंथि कहां होती है-यह किडनी में पाई जाने वाली किडनी का ऊपरी स्तर है जोकि किडनी में टोपी के सामान स्थित होती है इसका वजन 306 ग्राम तथा लंबाई 4 से 5 सेंटीमीटर चौड़ाई 2.5 सेंटीमीटर तथा ऊंचाई 1 सेंटीमीटर तक होती है इसका निर्माण मेसोडर्म से खुद का बाहरी भाग का विकास और neural actoderm से अपना विकास करता है
  • अधिवृक्क ग्रंथि का बाहरी भाग को वल्किय भाग कहा जाता है तथा भीतरी भाग को मज्जक पिंड कहा जाता है और यह अधिवृक्क ग्रंथि का बाहरी आवरण संयोजी उत्तक से ढका होता है जिसे सम्पूट कहा जाता है, अधिवृक्क ग्रंथि को suprarenal gland भी कहा जाता है
  • अधिवृक्क ग्रंथि ने 75 से 90% भाग एड्रीनल कोरटेक्स ( एड्रीनल वल्क ) पाया जाता है, एड्रीनल के इस भाग से कुल 45 प्रकार के हार्मोन स्रावित होते हैं जिन्हें सामूहिक रूप से corticosteroid कहा जाता है

इसे पूरी तरह से तीन भागों में बांटा जाता है इसमे सम्मिलित रूप से

  • Zonaglomerulosa
  • Zonafasciculata
  • Zonareticularis

एड्रीनल के इस भाग से कुल 45 प्रकार के हार्मोन स्रावित होते हैं जिन्हें सामूहिक रूप से corticosteroid कहा जाता है और इसका रासायनीक गुण स्टेरॉयड जैसा होता है

लेकिन इनमें से कुछ है सक्रिय होते हैं जो काम के लायक होते हैं ,जो निम्न है

लिंग हारमोंस

वैसे तो  किसी जीव जंतु में लिंग निर्धारण एक्स और वाई गुणसूत्र कारण होता है किंतु किसी जंतु में लैंगिक लक्षण का दिखाई देना लिंग हार्मोन पर निर्भर करता है जैसे कोई लड़की जब यौवन धारण करती है तब उसके वक्षस्थल उभरने लगते हैं इसके अलावा उनकी आवाज में पतला पन होता है जननांग के आसपास बालों उगने लगते हैं

यह सब लैंगिक लक्षण है जो लिंग हारमोंस की वजह से होती हैं

 इसी प्रकार किसी लड़के में यौवन आने पर उसकी चेहरे पर बाल आने लगते हैं जोकि मूंछ और दाढ़ी  में होते हैं इसी प्रकार छाती में भी बाल आने लगते हैं और लड़की की आवाज में भी भारीपन होने लगता है जो कि इस चीज का संकेतक है कि लैंगिक हारमोंस की वजह से व्यक्ति में यौवन आया है

Glucocorticoid-

इस हारमोंस का स्त्रावण एड्री नल कोरटेक्स में उपस्थित Zonafasciculata द्वारा किया जाता है इसकी वजह से ब्लड में glucose की मात्रा बढ़ जाती है, लीवर में ग्लाइकोजेनेसिस की प्रक्रिया इसी के द्वारा नियंत्रित होती है के अलावा इसके द्वारा रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाया जाता है किंतु सफेद रक्त कणिकाओं की संख्या को घटाया जाता है

Cortisone-

यह ह्यूमन बॉडी में गार्ड कोशिकाओं जैसी व्यवहार करती है इसका काम होता है शरीर की प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया को हमेशा एक्टिव रखना इसी कारण एलर्जी रिएक्शन करने में इसको बहुत ज्यादा हाथ होता है इसके अलावा जब कोई अंग प्रत्यारोपण किया जाता है तब human body कोई प्रतिक्रिया ना करें इसके लिए Cortisone का इंजेक्शन लगाया जाता है जिससे कि शरीर में प्रतिरक्षी उत्पन्न ना हो और  शरीर में काम सुचारू ढंग से हो

इसके अंदर प्रोटीन का उपापचय करती है

Minerallocorticoids –

 यह   Zonaglomerulosa से स्ट्रावित होने वाला hormone है

ईश्वर मूल के द्वारा इस शहर में उसके द्वारा रक्त में खनिज पदार्थों की मात्रा को नियंत्रित किया जाता है और इसके aldosterone नामक वृक्क नलिका जिसको मिनरेलोकोर्डिक कहते हैं के द्वारा NA और Cl आयन्स  को अवशोषण को नियंत्रण  करने का काम करती है, करण इतनी लवण प्रति धारक हार्मोन  कहा जाता है

अधिवृक्क वल्क का नियंत्रण-एड्रिनल ग्रंथि का कार्य

Adrenal medulla –

यह अधिवृक्क ग्रंथि का आंतरिक भाग है जिससे दो प्रकार के हार्मोन स्रावित होता है

  • Adrenalin or epinephrine
  • Non -Adrenalin or Non-epinephrine

Adrenalin or epinephrine

यह Adrenal medulla द्वारा स्रावित हारमोंस का 80 पर्सेंट भाग होता है, इसका खोज j.j. abel ने 1899  में किया तथा takamin ने इसे इसे विसुद्ध  रुप से पृथक किया. इस hormones के कार्य निम्नलिखित हैं

  • इसके द्वारा ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने का काम किया जाता है
  • यह शरीर में ऊर्जा की प्राप्ति हेतु ग्लाइकोजन को ग्लूकोज में बदलने का काम करती है
  • हृदय स्पंदन की दर को नियंत्रित की जाती है
  • संकटकाल में आंखों की पुतली को फैलाने शरीर में रोंगटे खड़े करने या डर की अनुभूति कराने की वाला हारमोंस कहा जाता है
  • इसके कारण सांस लेने की दर बढ़ जाती है

Non -Adrenalin or Non-epinephrine

हारमोंस की खोज का श्रेय ulf von euler ने 1946 में किया शरीर में इस hormone द्वारा पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन axelrod ने 1965 में किया 

इस हार्मोन के कार्य

इस हारमोंस के द्वारा शरीर में स्वायत्त तंत्रिका  तंत्र को नियमन नियंत्रण और क्रियान्वित करने का काम होता है शर्म उसके द्वारा हर रक्त नलिका को यूनिक होने के बजाय सिकुड़ने की वजह फैलाने का काम करता है

Conclusion – एड्रिनल ग्रंथि क्या है

या हमारे किडनी की ऊपर में पाया जाने वाला छोटा सा गलती है जो शरीर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है किस ग्रंथि से लगभग 45 हार्मोन स्रावित होते हैं जिनकी वजह से शरीर में बहुत सारे परिवर्तन आते हैं और शरीर को नियंत्रित करने का भी प्रयास किया जाता है उम्मीद है हमारी पोस्ट आपको पसंद आई होगी

“एड्रिनल ग्रंथि क्या है” के बारे आप कुछ पूछना चाहते हैं तो कृपया comment box में जरूर क्वेश्चन पूछे हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा, आप हमारे वेबसाइट vigyantk.com पर यू ही आते रहे जहाँ पर हम विज्ञान , प्रोद्योगिकी, पर्यावरण औऱ कंप्यूटर जैसे विषयो पर जानकारी साझा करते है

और भी पढ़े >

Share this

2 thoughts on “एड्रिनल ग्रंथि क्या है (अधिवृक्क ग्रंथि )- एड्रिनल ग्रंथि के कार्य , एड्रिनल ग्रंथि का संरचना”

  1. अधिवृक्क ग्रंंथी का ईलाज हो सकता है!

    Reply

Leave a Comment